देश भक्ति की कहानी- Heart Touching Sad Story

देश भक्ति की कहानी-Heart Touching Sad Story........

तो दोस्तों आप सबका एकबार फिर से हमारे इस ब्लॉग में और आज हम आपको देश भक्ति के बारे में एक स्टोरी बतायेगे तो प्ल्ज़ कृपया पॉस्ट को पूरा पढ़े।।।।

दोस्तों आप सबको satarathakor. com की तरफ से happy 26 january  की ढेर सारी सुभकामनाये।

तो दोस्तों कैसा लगा गिफ्ट प्लीज कमेंट करके बताना और अब ज्यादा टाइम वेस्ट ना करते हुवे पॉस्ट को सुरु करते हे ।

देश भक्ति की कहानी।
"सहीदो की चिताओ पर लगेंगे हर बर्ष मेले....
वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशा होगा...
कभी वह दिन भी आएगा की वे अपना राज देखेगे...
जब अपनी ही जमी होगी तब अपना ही अस्मा होगा..."

इस वीर रत कविता के यही सब्द हमे उन दिनोंमें आजादी की महानता एवं उसे प्राप्त करने की चुकायी जाने वाली कीमत का एहसास करने के लिए काफी हे।
यहाँ पे वो दौर था जब बच्चा,बूढ़ा और जवान देश प्रेम की लत में था ।
"वह खून कहो जिस मतलब का....
उसमें उबाल का नाम नही......
वह खून कहो जिस मतलब का....
आ सके जो देश के काम नही......."

आजादी की आंदोलन की समय पर उस युवा की पीढ़ी को भुला नही जा सकता
शहीद भगतसिंह
चंद्रशेखर आजाद
असफाक उल्ला खान
जैसे युवा ओ ने अपनी जान भी नेयोछावर कर दी थी देश की सेवा करने में।
ये जाबाज़ सिपाही भी अपनी भावना ओ को गीतो में व्यर्थ कर देते थे
"शर फरोशी की तम्मना ....
अब हमारे मन में हे.....
देखते है जोर कितना.....
तँ खिते बाजुइ कातिल में हे......"
लेकिन आज इस देश की उस युवा पीढ़ी को जाने किसकी नजर लग गयी बहुत तकलीफ होती है आज के देश के युवा की दशा और दृष्टि देख कर ।
ऐसा क्या करे की देश के युवा को देश भक्ति की भावना जाग उठे आने वाली पीढ़ी के लिए मातृभूमि का प्रेम प्राप्त कर सके इस क्या करे। 
आज देश भक्त जवान की आवश्यकता भी हे की उस जवान हमारे लिए अपनी जान न्योछहवार कर दी।
इस देश के नागरिकों की अपने देश के खिलाफ प्रेम की भावना खत्म हो जाती है वह देश एकबार फिर गुलाम बन जाता है। 
दर सल बात केवल युवाओं की नही है हम सबकी हे आज हम सब देश की ये बात करते हे परन्तु ये कभी नही सोचते हे की देश है क्या बोलो।
क्या देश कागज के टुकड़े पर बना हुवा चित्र हे,देश केवल भूगोल नही ह्वे ,देश केवल सिमा रेखा पर बनी हुवी सिमा नही है।
देश तो उनलोगों का हे जो देश को माँ समझते है ऐसा समझते है कि देश उनकी माँ हे, पालन हार हे,देश उनकी माँ से भी ज्यादा हे ये देश है।
वह तो सिर्फ उस भूमि पे रहने वाले देश के लोगो की माँ हे।

तो दोस्तों अगर आपको हमारी पॉस्ट पसन्द आयी हो तो प्लीज पॉस्ट को शेयर कर दो एंड अगर आपको कोई भी टेक्नोलॉजी या एडिटिंग के रिलेटेड जानकारी चाहिए तो हमे बेज़िक कमेंट बॉक्स में कमेंट कर दो

अगर आप हुमें कुछ बताना चाहते है तो इस ईमेल id पे मेल कर के बता सकते हो
Email:-satarathakor.com@gmail.com

🙏🙏Thanks For Visiting Our Blog🙏🙏

Post a Comment

4 Comments